Nawaz Poetry

उस दर्द के मारे का आलम क्या कहे नवाज़
जिनके अश्कों को आँखों तक लाने के लिए भी
उन्हें 100 बार ठिठकना पड़ता है |

Error: View ff08fb3bfw may not exist